जानिए क्या करें और क्या न करें गृह प्रवेश के अवसर पर

रतना और महेश ने इसी अक्षय तृतीया के अवसर पर घर खरीदा है, जो बेहद सुन्दर है | क्या आप जानना नहीं चाहेंगे कि उन्होंने यह घर कहाँ लिया | इस जोड़े ने अपने परिवार के लिए चुना Wave Executive Floors, जो गाज़ियाबाद के NH 24 पर Wave City में निर्माणाधीन है |

महेश एक आभूषणों का व्यापारी है और रतना उसकी पत्नी है, जो धर्म, कर्म, पूजा, पाठ और मुहूर्त जैसी चीज़ों में बहुत विश्वास करती है |नॉएडा और गाज़ियाबाद के क्षेत्र में इनके और भी फ्लैट्स हैं, लेकिन रहना इन्होंने Wave City में पसंद किया है, जहां बहुत सोच समझकर और शुभ मुहूर्त के साथ ही रतना गृह प्रवेश करना चाहती है |

Wave City में रहना इन्होंने इसलिए पसंद किया क्योंकि यहाँ सेंट्रल कमांड सेन्टर और सी. सी.टी.वी. कैमरों द्वारा उनका परिवार सुरक्षित है| यहाँ स्विमिंग पूल, जिम, रेस्टोरेंट, शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, पार्किंग और स्वच्छ वातावरण जैसी सुविधायें बहुत आसानी से उपलब्ध हैं |

परिवार के साथ इस घर में आने के लिए रतना के पास गृह प्रवेश को और शुभ बनाने के लिए कुछ टिप्स हैं, जिससे वह इस शुभ मुहूर्त को और शुभ बनाने का प्रयास कर रही है | क्या आप भी जानना चाहते हैं कि कौन सी टिप्स हैं ये |

घर को बनाना हो बेहद खूबसूरत तो बगीचे को ऐसे करें अलंकृत

रतना ने गृह प्रवेश के लिए दशहरा का दिन चुना है, क्योंकि गुडी पड़वा, अख तीज, बसंत पंचमी और दशहरा जैसे दिन इस कार्य के लिए बेहद शुभ माने जाते हैं | वहीँ उत्तरायण, होली, श्रद्धा पक्ष जैसे दिनों में गृह प्रवेश नहीं करना चाहिए |

रतना घर के पूर्ण रूप से बन जाने पर ही गृह प्रवेश करना चाहती है, क्योंकि गृह प्रवेश के लिए यह अनिवार्य है कि आपका घर सम्पूर्ण रूप से बन चुका हो, उसमें पेंट हो चुका हो और वह रहने लायक हो | गृह प्रवेश की पूजा कर उसमें रहना चाहिए, न की पूजा कर ताला लटका देना चाहिए|

रतना चाहती है कि जिस दिन गृह प्रवेश हो, उसी दिन घर में मंदिर की भी स्थापना हो | दरअसल, गृह प्रवेश के दिन घर के मुख्य द्वार की पूजा की जाती है, जिस पर आपको स्वास्तिक, लक्ष्मी जी के पद चिन्ह जैसे शुभ चिन्ह अंकित करने चाहिए और ऐसा माना जाता है कि यदि आप उसी दिन मंदिर की भी स्थापना कर दें तो सभी देवी देवताओं की कृपा आप पर बनी रहेगी |

गृह प्रवेश की पूजा पर घर में दाहिना पाँव आगे बढ़ाकर जाना चाहिए और घर में हवन और नव गृह शांति पूजा करवानी चाहिए | इस शुभ अवसर पर आप पंडित, रिश्तेदारों और दोस्तों को भोजन भी करवा सकते हैं | इसके बाद आप अपने घर में रह सकते हैं |

इन छोटी छोटी बातों का ध्यान रखकर, गृह प्रवेश का मंगल मुहूर्त और भी मंगल हो सकता है |

रतना और महेश तो अपना घर चुन चुके हैं और उसमें प्रवेश की तैयारी भी कर रहे हैं | क्या आप नहीं जानना चाहेंगे की इस जोड़े की घर की पसंद का मुख्य कारण क्या था?

Share This Story, Choose Your Platform!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *